March 08, 2009

महिला दिवस पर : सब धर्मों की तरफ़ से भविष्य से क्षमा

आज मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर जो मैं आपके साथ यह बांटने जा रहा हूँ, वह ओशो के उद्गार हैं | जब मैंने इसे पढ़ा तो मुझे लगा की इसे शेयर करना चाहिए क्योंकि धर्म, स्त्री नैतिकता को शासित कराने वाला और स्त्री को दमित कराने वाला एक प्रमुख तत्व रहा है | यह काम भले ही धर्म की आड़ में इसे विकृत करके ही किया गया हो फ़िर भी नुकसान तो हुआ ही | और विडम्बना यह की धर्म को पोषित करने और उसमें श्रद्धा रखने में स्त्रियाँ ही आगे रहीं हैं |

लीजिये पेश हैं, सदी के सबसे विद्रोही विचार -

"
मैं अपनी पहली संन्यास दीक्षा किसी स्त्री को ही देना चाहता था - संतुलन के लिए |

स्त्री को संन्यास देने में बुद्ध तक हिचकिचाए ..... बुद्ध तक ! उनके जीवन की सिर्फ़ यही एक बात मुझे कांटे कीतरह खटकती है, और कुछ नहीं | बुद्ध झिझके ....क्यों ? उन्हें डर था की स्त्री संयासिनियाँ उनके भिक्षुओं कोडावांडोल कर देंगी | क्या बकवास है ! एक बुद्ध और डरे ! अगर उन मूर्ख भिक्षुओं का ध्यान भंग होता था तो होनेदेते | महावीर ने कहा की स्त्री शरीर रहने से किसी को निर्वाण, परम मुक्ति नहीं हो सकती | मुझे इन सब पुरुषोंके लिए प्रायश्चित करना है | मोहम्मद ने कभी किसी स्त्री को मस्जिद में आने की अनुमति नहीं दी | सिनागोगमें भी स्त्रीयां गैलरी में अलग बैठती हैं, पुरुषों के साथ नहीं बैठतीं |

इंदिरा गाँधी मुझे बता रही थीं की जब वे इजराइल की यात्रा पर थीं और येरुसलम गईं, तो उन्हें भरोसा ही नहींहुआ की इजराइल की प्रधानमंत्री और वे स्वयं, दोनों बालकनी में बैठी हुई थीं और सारे पुरूष नीचे मुख्य हाल मेंबैठे हुए थे | उन्हें ख्याल नहीं आया की इजरायल की प्रधामंत्री भी, स्त्री होने के कारण मुख्य सिनागोग में प्रवेशनहीं कर सकती थीं | वे केवल बालकनी से देख सकती थीं |

यह आदरपूर्ण नहीं है, यह अपमानजनक है | मुझे मोहम्मद, मोज़ेज़, महावीर, बुद्ध के लिए माफी मांगनी है | और जीसुस के लिए भी, क्योंकि उन्होंने अपने ख़ास बारह शिष्यों में एक भी स्त्री नहीं चुनी| और जब उनकीसूली लगी तो वे बारह मूर्ख वहां नहीं थे | केवल तीन स्त्रियाँ उनके पास थीं - मेग्दालिन, मेरी और मेग्दालिन कीबहन | पर इन तीन स्त्रियों को भी जीसस ने नहीं चुना, वे चुने हुए ख़ास शिष्यों में नहीं थीं | चुने हुए ख़ास शिष्यतो भाग गए थे | वे अपनी जान बचाने की कोशिश में थे | खतरे के समय केवल स्त्रियाँ ही आईं |

इन सब लोगों के लिए मुझे भविष्य से क्षमा मांगनी है | और मेरी पहली माफ़ी थी कि सबसे पहले स्त्री को हीसंन्यास दिया |"

- ओशो

यह
पैराग्राफ "हिन्दुस्तान", नई दिल्ली और "हंस" पत्रिका में भी प्रकाशित हुआ है | स्त्री मनोविज्ञान से सम्बंधित ओशो के विचार "कृष्ण स्मृति" प्रवचन माला एवं पुस्तक में उपलब्ध हैं |

3 comments:

  1. महिला दिवस की बधाई।

    ReplyDelete
  2. I found this site using [url=http://google.com]google.com[/url] And i want to thank you for your work. You have done really very good site. Great work, great site! Thank you!

    Sorry for offtopic

    ReplyDelete
  3. Who knows where to download XRumer 5.0 Palladium?
    Help, please. All recommend this program to effectively advertise on the Internet, this is the best program!

    ReplyDelete

नेकी कर दरिया में डाल