October 08, 2009

तेरा होना सदा है कविता सा....

फिर तुम्हारा ख़याल आने लगा
दिल कोई गीत गुनगुनाने लगा

एक बहुत खूब शायरी पढकर
क्यों मैं शायर से मिलने जाने लगा

कितने नाजुक हैं ये नये रिश्ते
देखकर फूल भी लजाने लगा

अब तो बातों में भी है खामोशी
शायद अपना पडाव आने लगा

तेरा होना सदा है कविता सा
मैं तो अपनी गजल छिपाने लगा

जो मुझे एक पल में कहना था
उनको कहने में भी ज़माना लगा

जिक्र की राह अब हुई आसां
खौफ बन्दा खुदा से खाने लगा

या तो उलझो ही आज, या हंस दो
नाप-तौल अब तो मन उबाने लगा

उनकी बातों का कैसा शिकवा अब
उनका गुस्सा ही जब रिझाने लगा

14 comments:

  1. तेरा होना है कविता सा ...मैं अपनी ग़ज़ल छिपाने लगा ...
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ..!!

    ReplyDelete
  2. आह्ह!!..बहुत गहन भाव!! आनन्द आ गया.

    ReplyDelete
  3. वाह ऐसी कोमल-कांत रचना!!!! सोचा ही नहीं था कि आप इतना नाज़ुक सा कुछ लिखेंगे...बहुत सुन्दर. बहुत ही सुन्दर.

    ReplyDelete
  4. waah maza aa gaya ,sachmuch shaandaar hai ,jaise hi tippani dene ke nikali light chali gayi abhi turant aai hai .isliye aane me der ho gayi .saath hi doosre blog ke jariye aana padta hai ,is karan aa nahi pati.aapki salah jaldi manni padegi .kitab laabhkari rahi .

    ReplyDelete
  5. bahut hi gahre bhaav hain......... is kavita mein.......

    ReplyDelete
  6. कितने नाजुक है ये रिश्ते
    देखकर फूल शर्माने लगा

    बहुत खूब, बहुत बढिया !

    ReplyDelete
  7. चिटठा चर्चा पर दिए गए आपके कमेंट्स, से आपका शानदार व्यक्तित्व झलकता है , काश यहाँ कुछ और अर्कजेश मिल जाएँ ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. मुझको अच्छा लगा तो पढ़ डाला
    धीरे धीरे ही गुनगुनाने लगा

    ReplyDelete
  9. What shall i say really marvelous. Touched my heart as i was reading your word webbing with my wife. She remembers your name as we chat every day. And when i show this poem she instantly said who has send the piece. She replied her question herself and said who Arkjesh? Really touching sentiments. As a tribute to your creation and creativity though i should not still i will be sending an English translation of your creation very soon. As you know i have got a tight schedule still i will send one, rest assured.

    peerless indeed.

    ReplyDelete
  10. तेरा होना है कविता सा ...मैं अपनी ग़ज़ल छिपाने लगा .. वाह अच्छा है गज़ल जरा तकनीकी काम है मगर प्यार मे तकनीक नहीं चलती कवितभी सही है बहुत अच्छी रचना है बधाई

    ReplyDelete
  11. तेरा होना है कविता सा ...मैं अपनी ग़ज़ल छिपाने लगा .. वाह अच्छा है गज़ल जरा तकनीकी काम है मगर प्यार मे तकनीक नहीं चलती कवितभी सही है बहुत अच्छी रचना है बधाई

    ReplyDelete
  12. सचमुच यह गुनगुनाने लायक ही है ।

    ReplyDelete
  13. बहुत ही प्यारी सोच है। इस सोच को प्रणाम करता हूं।
    ----------
    डिस्कस लगाएं, सुरक्षित कमेंट पाएँ

    ReplyDelete
  14. गजल के भाव अच्छे हैं और कुछ शेर तो मानव-मनोविज्ञान का विश्लेषण करते हैं. निर्मला कपिला जी से मैं सहमत हूँ, गजल में तकनीकी कमियां हैं, इससे आपको भी सहमत होना चाहिए. किसी गजलकार से कुछ दिन सलाह-मशविरा कर लें, उसके अनुभव आपको पारंगत कर देंगे.
    दीपोत्सव पर शुभकामनाये.

    ReplyDelete

नेकी कर दरिया में डाल