April 01, 2010

मूर्ख बनने से बचने के १०१ तरीके




एक मूर्ख को भी, मूर्ख बने रहने के लिए सतत अपनी मूर्खता साबित करनी होती है
-

-


--

----


--------


==========

Continuing to remain a silly, fool has to prove his stupidity


यह १०२ वाँ तरीका था

13 comments:

  1. मैंने पढ़ा ही नहीं , हा=हा=हा !

    ReplyDelete
  2. ;)) bahut khoob ye nimantran isliye raha ,kabhi kabhi doosaro ki khushi me bhi apni khooshi nazar aati hame .ye koi aasan kaam nahi .

    ReplyDelete
  3. :(( असल में हमें अविनाश जी की पोस्ट पर दी गई वॉर्निंग के बाद चेत जाना चाहिये था...पर हम ठहरे बुद्धू, सो टेपा सम्राट बनने चले आये....पता नहीं जब अकल बंट रही थी तब हम कहां थे? =((

    ReplyDelete
  4. आपने लिखते लिखते ज़रूर पढ़ा होगा ...
    हम तो १०१ से आगे नही बड़े ...ha .. ha ... ha ...

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  6. us se zyada murkh kaun hoga jo sochta hai ki murkh ban-ne se bacha ja sakta hai!? jo sachmuch murkh nahiN hain (aisa bhi kuchh log hote haiN kya !) unke liye mera 420vaN tarika hai.
    par aaj tak uski zarurat nahiN padhi.:-)

    mere comment me jo kuchh bhi kaha gaya hai, agar kisi ki samajh me aaya ho to maiN sharmiNda huN.

    ReplyDelete
  7. आज मूर्ख दिवस मनाने में इतना व्यस्त रहा कि कहीं किसी ब्लॉग पर जाना हुआ नहीं यद्यपि दिवस विशेष का ख्याल रख यहाँ चला आया हूँ और आकर अच्छा लगा. धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  8. मूर्ख बनने-बनाने की ये अदा पसंद आयी ! लेकिन ये मेरी अदा थी कि कैप्शन पढने के बाद भी तीन दिनों तक इधर फटका नहीं और मूर्ख-दिवस बीत गया ! आज, तीन दिनों बाद यहाँ आकर मूर्ख बनने के १०२ महनीय तरीके पढ़कर जा रहा हूँ ! गर्व इस बात का है कि मैं मूर्ख-दिवस पर मार्ख नहीं बना !
    सप्रीत--आ.

    ReplyDelete
  9. :))

    मूर्ख ?ये क्या है? हम को तो ये भी नहीं मालूम ..............

    ReplyDelete
  10. शायद आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज बुधवार के चर्चा मंच पर भी हो!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete

नेकी कर दरिया में डाल